Shobhit: ब्रह्म प्राप्ति यदि मनुष्य जीवन का लक्ष्य है तो प्रत्येक मनुष्य का ब्रह्मांड प्रथक क्यूँ है ? मेरा समय, मेरा ब्रह्म, मेरा ब्रह्मांड आपसे या नरेंद्र मोदी से प्रथक क्यूँ है? यदि सबका ब्रह्म एक है और मात्र पथ अलग हैं तो ब्रह्म ज्ञान सबको समान क्यूँ नहीं है? यदि सबको समान ब्रह्म ज्ञान है, तो सब का मत प्रथक क्यूँ है? जीवन में मौत के अलावा क्या है जो लक्ष्य है? एक सत्य है, एक ब्रह्म है तो प्राप्ति अलग क्यूँ है?

Swami Ram Swarup: Ishwar to ek hi hai do ya teen Ishwar nahi hai. Weh Ishwar Vedon ka gyan prapt karke aur vedon mein kahi shiksha ko acharan mein lakar hi prapt karta hai. Ved vidya ke ilawa  pichhle do- dhai hajar varshon mein swarthvash apne khud ke naye naye mat/ raste jo vid virudh hain woh bana liye hain aur is se  aaj pura vishwa dukhi hai, sukh chain shanti aadi samapt prayah ho gai hai.

Sounak: If we commit sins and then Realised that was not good…we lament…and repent to Almighty God. Will God forgive us?

Swami Ram Swarup: No please, the sin done by anybody else, he faces the punishment awarded by God Himself.

Ved Mandir

FREE
VIEW