यज्ञ तीनों लोकों को लाभ देता  है। सन १९७८ से ईश्वर व गुरु की कृपा से  तीनों लोकों को लाभ पहुँचाया है। योल शाँत एरिया रह रहा है। अभी भी तीनों लोकों को व संगत के एक-एक बच्चे को लाभ देने का मेरा प्रयास है। यज्ञ चलें और आशीर्वाद मुँह से निकलते रहें। यज्ञ चलना बहुत जरूरी है। 

यज्ञं कुरु! यज्ञं कुरु! यज्ञ: यज्ञं गच्छ।  हे यज्ञ! तू ईश्वर को प्राप्त हो! आपके किए हुए यज्ञ ईश्वर  स्वीकार करता है। आप तीनों लोकों  को लाभ देते हो।

Ved Mandir

FREE
VIEW